World Environment Day 2022 का इतिहास और कैसे हुई थी शुरुआत?

World Environment Day 2022 का इतिहास और कैसे हुई थी शुरुआत?

World Environment Day 2022

World Environment Day 5 June 2022: हर साल आज (5 जून) को ‘World Environment Day’ मनाया जाता है। मनुष्य को जीवित रहने के लिए आवश्यक वायु, जल, भोजन पर्यावरण की ही देन है। इसके बिना पृथ्वी पर जीवन की कल्पना नहीं की जा सकती हैं। इसलिए जरूरी है कि हम अपने पर्यावरण की रक्षा करें। आइए जानते हैं कैसे हुई पर्यावरण दिवस की शुरुआत

World Environment Day 2022: दुनिया भर में हर साल आज के दिन यानी 5 जून को पर्यावरण दिवस मनाया जाता है। पर्यावरण दिवस के माध्यम से लोगों को पर्यावरण के प्रति जागरूक करने का प्रयास किया जाता है। मनुष्य के अस्तित्व के लिए हमें पर्यावरण से सभी आवश्यक चीजें मिलती हैं। इसलिए जरूरी है कि हम पर्यावरण की रक्षा करें और धरती पर संतुलन बनाए रखें। आज के औद्योगिक सभ्यता के युग में पर्यावरण बुरी तरह प्रदूषित होता जा रहा है। पर्यावरण में प्रदूषण के बढ़ते स्तर के कारण कभी बारिश तो कभी सूखे की स्थिति पैदा हो जाती है। ऐसे में जरूरी है कि लोगों को पर्यावरण के प्रति जागरूक किया जाए।

कैसे हुई थी पर्यावरण दिवस की शुरुआत?

1972 में, पर्यावरण प्रदूषण की समस्या को देखते हुए, संयुक्त राष्ट्र ने स्टॉकहोम (स्वीडन) में दुनिया भर के देशों का पहला पर्यावरण सम्मेलन आयोजित किया, जिसमें 119 देशों ने भाग लिया। इस सम्मेलन में संयुक्त राष्ट्र पर्यावरण कार्यक्रम (UNEP) का जन्म हुआ और प्रत्येक वर्ष 5 जून को पर्यावरण दिवस का आयोजन कर नागरिकों को प्रदूषण की समस्या से अवगत कराने का निर्णय लिया गया। इसका मुख्य उद्देश्य राजनीतिक चेतना जगाना और पर्यावरण के प्रति जागरूकता लाते हुए आम जनता को प्रेरित करना था।

यह भी पढ़े-  UP Board Result 2022 Update: जानें कब आएगा 10वीं 12वीं का रिजल्ट : लाखों छात्र कर रहे है इंतजार

World Environment Day 2022 इस साल का थीम

World Environment Day हर साल एक नई थीम के साथ मनाया जाता है। इस बार World Environment Day 2022 की थीम ‘केवल एक पृथ्वी’ है जिसका अर्थ है ‘केवल एक पृथ्वी’। 1972 के स्टॉकहोम सम्मेलन का नारा था “केवल एक पृथ्वी”; 50 साल बाद भी यह सच्चाई कायम है – यह ग्रह हमारा एकमात्र घर है।

World Environment Day 2022 Theme
World Environment Day 2022 Theme

सैंड आर्टिस्ट सुदर्शन पटनायक ने World Environment Day के अवसर पर पुरी बीच पर लोगों को जागरूक करने के लिए सैंड आर्ट बनाई। इस सैंड आर्ट के माध्यम से सुदर्शन पटनायक ने यह संदेश देने की कोशिश की है कि हमारे पास एक ही धरती है। हमें न केवल अपने लिए बल्कि अपनी आने वाली पीढ़ियों के लिए भी उनकी देखभाल करने की आवश्यकता है।

World Environment Day का महत्व

‘World Environment Day’ मनाने का मुख्य उद्देश्य आम लोगों को पर्यावरण प्रदूषण, जलवायु परिवर्तन, ग्रीनहाउस प्रभाव, ग्लोबल वार्मिंग, ब्लैक होल प्रभाव आदि के कारण होने वाली विभिन्न समस्याओं से अवगत कराना है और उन्हें बचाने के लिए हर संभव प्रयास करना है।

World Environment Day का इतिहास

World Environment Day की स्थापना 1972 में संयुक्त राष्ट्र द्वारा मानव पर्यावरण पर स्टॉकहोम सम्मेलन (5-16 जून 1972) में की गई थी, जिसमें 119 देशों ने भाग लिया था। सभी ने एक पृथ्वी के सिद्धांत को मान्यता देते हुए हस्ताक्षर किए। इसके बाद 5 जून को सभी देशों में ‘World Environment Day’ मनाया जाने लगा। भारत में पर्यावरण संरक्षण अधिनियम 19 नवंबर 1986 से लागू हुआ।

NCERT Solutions for Class 10 Hindi
NCERT Solutions for Class 9 Hindi
NCERT Solutions for Class 7 hindi
NCERT Solutions for Class 6 Hindi

उम्मीद करती हूँ कि आपको हमारा यह पोस्ट पसंद आया होगा। पोस्ट अच्छा लगा तो इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर करना न भूले। किसी भी तरह का प्रश्न हो तो आप हमसे कमेन्ट बॉक्स में पूछ सकतें हैं। साथ ही हमारे Blogs को Follow करे जिससे आपको हमारे हर नए पोस्ट कि Notification मिलते रहे।

यह भी पढ़े-  देश में डरा रही कोरोना की रफ्तार ।। कोरोना वायरस अपडेट्स

        आपको यह सभी पोस्ट Video के रूप में भी हमारे YouTube चैनल  Education 4 India पर भी मिल जाएगी।

Scroll to Top