पदार्थ धातु और अधातु के प्रश्न उत्तर | NCERT Solutions For Class 8 Science Chapter 4

NCERT Solutions for Class 8 Science Chapter 4 | Materials Metals and Non Metals

NCERT Solutions for Class 8 Science Chapter 4

  आज हम आप लोगों को कक्षा 8 विज्ञान अध्याय 4 (NCERT Solutions for Class 8 Science Chapter 4) के पदार्थ धातु और अधातु के प्रश्न उत्तर (Materials Metals and Non Metals Question Answer) के बारे में बताने जा रहे है। इसके अतिरिक्त यदि आपको और भी NCERT से सम्बन्धित पोस्ट चाहिए तो आप हमारे website के Top Menu में जाकर प्राप्त कर सकते हैं।

NCERT Solutions for Class 8 Science Chapter 4 Question Answer | पदार्थ धातु और अधातु के प्रश्न उत्तर

अभ्यास

1. निम्नलिखित में से किसको पीटकर पतली चादरों में परिवर्तित किया जा सकता है?

(क) जिंक

(ख) फ़ॉस्फोरस

(ग) सल्फर

(घ) ऑक्सीजन

उत्तर- जिंक

2. निम्नलिखित में से कौन सा कथन सही है?

(क) सभी धातुएँ तन्य होती हैं।

(ख) सभी अधातुएँ तन्य होती हैं।

(ग) सामान्यतः धातुएँ तन्य होती हैं।

(घ) कुछ अधातुएँ तन्य होती हैं।

उत्तर – सामान्यतः धातुएँ तन्य होती हैं।

3. रिक्त स्थानों की पूर्ति कीजिए-

(क) फ़ॉस्फोरस बहुत __________ अधातु है।

उत्तर – अभिक्रियाशील

(ख) धातुएँ ऊष्मा और _________ की _________ होती हैं।

उत्तर – विद्युत, सुचालक

(ग) आयरन, कॉपर की अपेक्षा __________ अभिक्रियाशील है।

उत्तर – अधिक

(घ) धातुएँ, अम्लों से अभिक्रिया कर __________ गैस बनाती हैं।

उत्तर – हाइड्रोजन

4. यदि कथन सही है तो “T” और यदि गलत है तो कोष्ठक में “F” लिखिए-

(क) सामान्यतः अधातु अम्लों से अभिक्रिया करते हैं। (F)

(ख) सोडियम बहुत अभिक्रियाशील धातु है। (T)

(ग) कॉपर, जिंक सल्फेट के विलयन से जिंक विस्थापित करता है। (F)

(घ) कोयले को खींच कर तारें प्राप्त की जा सकती हैं। (F)

5. नीचे दी गई सारणी में गणों की सूची दी गई है। इन गुणों के आधार पर धातुओं और अधातुओं में अंतर कीजिए-

गुणधातुअधातु
दिखावटधातु चमकीली होती हैअधातु दिखने में धातु की तरह चमकीली नहीं होती है।
कठोरताज्यादातर धातुएँ कठोर होती है। कुछ धातुएँ को आसानी से चाकू से काटा जा सकता है जैसे पोटैशियम और सोडियम।ज्यादातर धातुएँ कठोर नहीं होती है। परन्तु हीरा एक कठोर अधातु है।
आघातवर्धनीयताधातु को पीटकर पतली चादर के रूप में बनाया जा सकता है।अधातु को पीटने पर टूट जाती है।
तन्यताधातुएँ को पीटकर तार के रूप में तैयार किया जा सकता है।अधातुओं को पीटकर तार के रूप में तैयार नहीं किया जा सकता है।
ऊष्मा चालनधातुएँ ऊष्मा की सुचालक होती है।अधातुएँ ऊष्मा की कुचालक होती है।
विद्युत चालनधातुएँ विद्युत की सुचालक होती है।अधातुएँ विद्युत की सुचालक होती है। ग्रेफाइड विद्युत का अच्छा चालक है। 

6. निम्नलिखित के लिए कारण दीजिए-

यह भी पढ़े-  NCERT Solutions for Class 8 Science Chapter 1 | Crop Production and Management

(क) ऐलुमिनियम की पन्नी का उपयोग खाद्य सामग्री को लपेटने में किया जाता है।

उत्तर – ऐलुमिनियम की पन्नी का उपयोग खाद्य सामग्री को लपेटने में इसलिए किया जाता है क्योंकि एल्युमिनियम के तार को पीटने पर उसके आकार में परिवर्तन हो जाता है। यदि उसे और अधिक बल से पीटा जाए तो उसे शीट में भी परिवर्तित किया जा सकता है। एल्युमिनियम संक्षारण विरोधी धातु भी है, जिसके कारण इसकी बनी पन्नी में रखे खाद्य सामग्री को नुकसान भी नहीं होता है।  

(ख) निमज्जन छड़ें (इमरशन रॉड) धात्विक पदार्थों से निर्मित होती हैं।

उत्तर – इमरशन रॉडधात्विक पदार्थों से निर्मित होती हैं, क्योंकि इसमें विद्युत प्रवाह करने पर बहुत तेजी से गर्म हो जाती हैं और विद्युत की सुचालक भी होती है।

(ग) कॉपर, जिंक को उसके लवण के विलयन से विस्थापित नहीं कर सकता।

उत्तर – कॉपर, जिंक को उसके लवण के विलयन से विस्थापित नहीं कर सकता क्योंकि जिंक कॉपर से अधिक अभिक्रियाशील है।

(घ) सोडियम और पोटैशियम को मिट्टी के तेल में रखा जाता है।

उत्तर – सोडियम और पोटैशियम को मिट्टी के तेल में रखा जाता है क्योंकि ये दोनों धातुओं को यदि हम वायु में खुला छोड़ दे तो यह वायु में तेजी से क्रिया करके जाल् उठेगीं। ये दोनों धातुएँ अधिक क्रियाशील धातु हैं।

7. क्या आप नींबू के अचार को ऐलुमिनियम पात्रों में रख सकते हैं? स्पष्ट करिए।

उत्तर – एल्युमिनियम एक धातु है। नींबू में सिट्रिक अम्ल पाया जाता है जो एल्युमिनियम धातु से क्रिया करके विषैले पदार्थ का निर्माण करते है। यह विषैला पदार्थ हमारे खाने में हानिकारक सिद्ध हो सकता है इसलिए नींबू के आचार को एल्युमिनियम के पात्र में नहीं रख सकते हैं।

यह भी पढ़े-  NCERT Solutions for Class 8 Science Chapter 3 | Synthetic Fibers and Plastics

8. नीचे दी गई सारणी के कॉलम I में कुछ पदार्थ दिये गये हैं। कॉलम II में उनके कुछ उपयोग दिये गये हैं। कॉलम I के पदार्थों का कॉलम II से सही मिलान करिए-

कॉलम Iकॉलम I
1. गोल्ड4. आभूषण
2. आयरन5. मशीनें
3. ऐलुमिनियम3. खाद्य सामग्री लपेटना
4. कार्बन6. ईंधन
5. कॉपर2. बिजली के तार
6. मर्करी1. थर्मामीटर

9. क्या होता है जब-

(क) तनु सल्फ्यूरिक अम्ल कॉपर प्लेट पर डाला जाता है?

 (ख) लोहे की कील, कॉपर सल्फेट के विलयन में रखी जाती है?

सम्बन्धित अभिक्रियाओं के शब्द समीकरण लिखिए।

उत्तर (क) – तनु सल्फ्यूरिक अम्ल को कॉपर के प्लेट पर डालने पर कॉपर सल्फेट, जल तथा सल्फरडाईआक्साइड उत्पन्न होते है।

तनु सल्फ्यूरिक अम्ल + कॉपर Ò कॉपर सल्फेट + जल + सल्फरडाईआक्साइड

उत्तर (ख) – लोहे की कील को जब कॉपर सल्फेट के विलयन में मिलाते हैं तो ये दोनों आपस में अभिक्रिया करते है जिसके फलस्वरूप लोहा अधिक क्रियाशील धातु, कॉपर कम क्रियाशील धातु को उसके सल्फेट विलयन से विस्थापित करके आयरन सल्फेट तथा कॉपर उत्पन्न करते है।

आयरन  + कॉपर सल्फेट Ò आयरन सल्फेट + कॉपर

10. सलोनी ने लकड़ी के कोयले का एक जलता हुआ टुकड़ा लिया और उससे उत्सर्जित होने वाली गैस को एक परखनली में इकट्ठा किया-

(क) वह गैस की प्रकृति कैसे ज्ञात करेगी?

उत्तर (क) – सर्वप्रथम सलोनी परखनली में इकट्ठी की गई गैस को पानी डालकर उसे घोलगी। हम सब यह जानते हैं कि कोयला जब वायु की उपस्थिति में जलता हैं तो कार्बन डाईऑक्साइड गैस उत्पन्न होती है और यही गैस पानी में घुलकर कार्बोनिक अम्ल (H2CO3) का निर्माण करती हैं। सलोनी इसकी प्रकृति का परीक्षण लिटमस पत्र की सहायता से करेगी। यदि यह विलयन नीले लिटमस पत्र को लाल कर देता है तो विलयन की प्रकृति अम्लीय है यदि नहीं तो क्षारीय।

यह भी पढ़े-  NCERT Solutions for Class 8 Science Chapter 6 | Combustion and Flame

(ख) इस प्रक्रम में होने वाली सभी अभिक्रियाओं के शब्द समीकरण लिखिए।

कार्बन + ऑक्सीजन → कार्बन डाइऑक्साइड

कार्बन डाइऑक्साइड + जल कार्बनिक → अम्ल

11. एक दिन रीता अपनी माँ के साथ आभूषण विक्रेता की दुकान पर गई। उसकी माँ ने सुनार को पॉलिश करने हेतु सोने के पुराने आभूषण दिए। अगले दिन जब वे आभूषण वापस लाईं तो उन्होंने पाया कि भार कुछ कम हो गया है। क्या आप भार में कमी का कारण बता सकते हैं?

उत्तर – आभूषण के भार में आई कमी का कारण यह है कि सुनार जब आभूषणों को पॉलिश करते हैं तो उस आभूषण को वह एक्वारेजिया नामक घोल में डाल देते हैं जो हाइड्रोक्लोरिक अम्ल और सांद्र नाइट्रिक अम्ल का मिश्रण होता है। आभूषणों को जब इस मिश्रण में डाला जाता है तब यह सोने को अपने अंदर घोल लेता है अथवा यह मिश्रण सोने की ऊपरी परत को हटा देता है और निचली चमकीली परत दिखने लगता है। आभूषण की ऊपरी परत मिश्रण के घोल में मिल जाती है। इस प्रक्रिया से आभूषण चमकने भी लगता है और भार में कमी भी आ जाती है।

NCERT Solutions for Class 10 Hindi

            इस पोस्ट के माध्यम से हम कक्षा 8 विज्ञान अध्याय 4 (NCERT Solutions for Class 8 Science Chapter 4) के पदार्थ धातु और अधातु के प्रश्न उत्तर (Materials Metals and Non Metals Question Answer) के बारे में  जाने। उम्मीद करती हूँ कि आपको हमारा यह पोस्ट पसंद आया होगा। पोस्ट अच्छा लगा तो इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर करना न भूले। किसी भी तरह का प्रश्न हो तो आप हमसे कमेन्ट बॉक्स में पूछ सकतें हैं। साथ ही हमारे Blogs को Follow करे जिससे आपको हमारे हर नए पोस्ट कि Notification मिलते रहे।

          आपको यह सभी पोस्ट Video के रूप में भी हमारे YouTube चैनल  Education 4 India पर भी मिल जाएगी।

Scroll to Top