NCERT Solutions For Class 10 Hindi Kshitiz Chapter 5 Question Answer | उत्साह और अट नहीं रही

NCERT Solutions For Class 10 Hindi Kshitiz Chapter 5 Question Answer | उत्साह और अट नहीं रही

NCERT Solutions For Class 10 Hindi Kshitiz Chapter 5 Question Answer

आज हम आप लोगों को कृतिका भाग-2 के कक्षा-10  का पाठ-5 (NCERT Solutions For Class 10 Hindi Kshitiz Chapter 5 Question Answer) के उत्साह और अट नहीं रही प्रश्न-उत्तर (utsah aur at nahi rahi hai question answer) के बारे में बताने जा रहे है जो कि सूर्यकान्त त्रिपाठी ‘निराला’ (Suryakant Tripathi ‘Nirala’) द्वारा लिखित है। इसके अतिरिक्त यदि आपको और भी NCERT हिन्दी से सम्बन्धित पोस्ट चाहिए तो आप हमारे website के Top Menu में जाकर प्राप्त कर सकते हैं।

NCERT Solutions For Class 10 Hindi Kshitiz Chapter 5 Question Answer | उत्साह और अट नहीं रही

उत्साह प्रश्न-उत्तर

प्रश्न 1. कवि बादल से फुहार, रिमझिम या बरसने के स्थान पर गरजने के लिए कहता है, क्यों ?

उत्तर :- कवि बादल से फुहार, रिमझिम या बरसने  के स्थान पर ‘गरजने के लिए कहता है क्योंकि कविता में बादल एक तरफ पीड़ित – प्यासे जन की आकांक्षा को पुरा करने वाला है,तो दुसरी तरफ नयी कल्पना और नए अंकुर के लिए विध्वंस , विप्लव और क्रांति चेतना को संभव करने वाला भी है । कवि बादल को क्रांति दूत के रूप में देखते हैं। कवि के लिए ‘गरजना’ विद्रोह का प्रतीक है। कवि ने बादल के गरजने के माध्यम से कविता में नूतन विद्रोह नजर आता है।

 प्रश्न 2. कविता का शीर्षक उत्साह क्यों रखा गया है ?

उत्तर :- उत्साह एक आह्वान गीत है। कवि इस कविता के माध्यम से क्रांति लाने के लिए पीड़ित-प्यासे को उत्साहित करना चाहते हैं। बादल का गरजने से लोगों के मन में उत्साह भर जाता है। कवि का मानना है कि एक ओर बादलों के गर्जन में उत्साह समाया है और इसी उत्साह का संचार करके लोगों में क्रांति का भाव पैदा करना है। इसलिए कविता का शीर्षक उत्साह रखा गया है।

 प्रश्न 3. कविता में बादल किन-किन अर्थों की ओर संकेत करता है ?

यह भी पढ़े-  NCERT Solutions For Class 10 Hindi Kshitiz Chapter 2 Question Answer

उत्तर :- कविता में बादल निम्नलिखित अर्थों की ओर संकेत करता है –

  1. जल बरसाने वाली शक्ति है।
  2. बादल पीड़ित-प्यासे जन की आकाँक्षा को पूरा करने वाला है।
  3. बादल कवि के अंतर्मन में उत्साह और संघर्ष पैदा कर कविता में नया जीवन लाने में सक्रिय है।

प्रश्न 4. शब्दों का ऐसा प्रयोग जिससे कविता के किसी खास भाव या दृश्य में ध्वन्यात्मक प्रभाव पैदा हो, नाद-सौंदर्य कहलाता है। उत्साह कविता में ऐसे कौन-से शब्द हैं जिनमें नाद-सौंदर्य मौजूद हैं, छाँटकर लिखें।

उत्तर :- उत्साह’ कविता में नाद सौंदर्य वाले शब्द निम्नलिखित हैं

बादल गरजो!

घेर घेर घोर गगन, धाराधर ओ!

रचना और अभिव्यक्ति 

प्रश्न 5. जैसे बादल उमड़-घुमड़कर बारिश करते हैं वैसे ही कवि के अंतर्मन में भी भावों के बादल उमड़-घुमड़कर कविता के रूप में अभिव्यक्त होते हैं। ऐसे ही किसी प्राकृतिक सौंदर्य को देखकर अपने उमड़ते भावों को कविता में उतारिए।

 उत्तर :- विद्यार्थी शिक्षक की मदद से स्वंय करें ।

पाठेतर सक्रियता

*बादलों पर अनेक कविताएँ हैं । कुछ कविताओं का संकलन करें और उनका चित्रांकन भी कीजिए ।

 उत्तर :- विद्यार्थी शिक्षक की मदद से स्वंय करें ।

अट नहीं रही प्रश्न-उत्तर | NCERT Solutions For Class 10 Hindi Kshitiz Chapter 5 Question Answer

प्रश्न 1. छायावाद की एक खास विशेषता है अन्तर्मन के भावों का बाहर की दुनिया से सामंजस्य बिठाना। कविता की किन पंक्तियों को पढ़कर यह धारणा पुष्ट होती है ? लिखिए।

उत्तर :- कविता के निम्नलिखित पंक्तियों को पढ़कर यह धारणा पुष्ट होती है कि प्रस्तुत कविता में अन्तर्मन के भावों का बाहर की दुनिया से सामंजस्य बिठाया गया है:

कहीं साँस लेते हो,

घर घर भर देते हो,

उड़ने को नभ में तुम,

पर पर कर देते हो।

प्रश्न 2. कवि की आँख फागुन की सुंदरता से क्यों नहीं हट रही है?

उत्तर :- फागुन का मौसम तथा दृश्य अत्यंत मनमोहक होता है। फागुन बहुत मतवाला और शोभाशाली होता है । पेड़ों पर कहीं हरी तो कही लाल पत्तियाँ हैं, फूलों की मंद-मंद खुशबू हृदय को मुग्ध कर लेती है। चारों ओर का दृश्य अत्यंत मनमोहक तथा हरा-भरा दिखाई देता है । इस महीने में प्रकृति का सौंदर्य अत्यंत मनमोहक होता है। चारों ओर फैली हरियाली और खिले रंग-बिरंगे फूल अपनी सुगंध से सबका मन मोह लेता हैं। इसलिए कवि की आंखें फागुन की सुंदरता से मंत्रमुग्ध है, जो चाह कर भी वहां से नहीं हटती। इसीलिए कवि की आँख फागुन की सुंदरता से हट नहीं रही है।

यह भी पढ़े-  उत्साह और अट नहीं रही का भावार्थ | Class 10 Hindi Kshitiz Chapter 5 Bhavarth

प्रश्न 3. प्रस्तुत कविता में कवि ने प्रकृति की व्यापकता का वर्णन किन रूपों में किया है ?

उत्तर :- प्रस्तुत कविता में कवि ने प्रकृति की व्यापकता सौंदर्य और मादक रूप के प्रभाव को दर्शाया गया  है। बाग बगीचों में चारों ओर हरियाली छा गई है । डालियाँ कहीं हरी तो कहीं लाल पंक्तियों से भरी पड़ी हैं। निराला’ जी ने फागुन के सर्वव्यापक सौन्दर्य और मादक रूप के प्रभाव को सुन्दर रुप मे दर्शाया है। फागुन में पेड़-पौधे नए-नए पत्तों, फल और फूलों से भर जाते हैं। खेत-खलिहानों, जीव-जन्तुओं, पशु-पक्षियों  में फ़ागुन का उल्लास सहज ही नजर आता है।लोगों का मन आनंद से भर जाता है।

प्रश्न 4. फागुन में ऐसा क्या होता है जो बाकी ऋतुओं से भिन्न होता है ?

उत्तर :- फागुन बाकी ऋतुओं से निम्नलिखित प्रकार से भिन्न है:

  1. फागुन के समय प्रकृति की शोभा अपने चरम पर होती है।
  2. पेड़-पौधे की डालियाँ नए पत्तों, फल और फूलों से भर जाते हैं।
  3. हवा मंद-मंद खुशबु लिए रहती है ।
  4. आसमान स्वच्छ होता है।
  5. बाग-बगीचों और पक्षियों में उल्लास भर जाता हैं।

प्रश्न 5. इन कविताओं के आधार पर निराला के काव्य-शिल्प की विशेषताएं लिखिए ।

उत्तर :- महाकवि सूर्यकांत त्रिपाठी ‘ जी छायावाद के प्रमुख कवि माने जाते हैं। उनके काव्य-शिल्प की

निम्नलिखित विशेषताएं हैं:

  1. निराला जी की कविताओं में तत्सम शब्दों का प्रयोग देखने को मीलता है।
  2. विताओं में अनुप्रास रूपक, यमक, उपमा आदि अलंकारों का प्रयोग अच्छे सही ढंग से किया जाता है ।
  3. कविताओं की भाषा सरल और सहज है।

रचना और अभिव्यक्ति

प्रश्न 6. होली के आसपास प्रकृति नें जो परिवर्तन दिखाई देते है, उन्हें लिखिए ।

यह भी पढ़े-  एही ठैयाँ झुलनी हेरानी हो रामा पाठ का सार | Ehi Thaiyan Jhulni Ho Rama Summary

उत्तर :- फागुन के महीने में  होली का त्यौहार आता है ।फागुन का महीना बड़ा मस्ती भरा होता है ।इस समय फसल पक कर तैयार होने लगती है । ऐसा लगता है प्रकृति ने सरसों के पीली फुलों की साड़ी पहन ली है । पेड़-पौधो की डालियाँ पत्तों तथा रंग-बिरंगें फुलों से लद जाते है ।मंद-मंद खुशबू लिए हवा बहकर सबका मन मोह लेती है ।

उत्साह का भावार्थ | NCERT Solutions For Class 10 Hindi Kshitiz Chapter 5

 काव्यांश – 1

 बादल , गरजो !

घेर घेर घोर गगन , धाराधर ओ !

Read More

NCERT Solutions for Class 10 Hindi

            इस पोस्ट के माध्यम से हम कृतिका भाग-2 के कक्षा-10  का पाठ-5 (NCERT Solutions For Class 10 Hindi Kshitiz Chapter 5 Question Answer) के उत्साह और अट नहीं रही प्रश्न-उत्तर (utsah aur at nahi rahi hai question answer) के बारे में  जाने जो की सूर्यकान्त त्रिपाठी ‘निराला’ (Suryakant Tripathi ‘Nirala’) द्वारा लिखित है। उम्मीद करती हूँ कि आपको हमारा यह पोस्ट पसंद आया होगा। पोस्ट अच्छा लगा तो इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर करना न भूले। किसी भी तरह का प्रश्न हो तो आप हमसे कमेन्ट बॉक्स में पूछ सकतें हैं। साथ ही हमारे Blogs को Follow करे जिससे आपको हमारे हर नए पोस्ट कि Notification मिलते रहे।

          आपको यह सभी पोस्ट Video के रूप में भी हमारे YouTube चैनल  Education 4 India पर भी मिल जाएगी।

Scroll to Top