नौकर प्रश्न-उत्तर | Naukar Question Answer | NCERT Solutions for Class 6 Hindi Chapter 15

नौकर प्रश्न-उत्तर | Naukar Question Answer | NCERT Solutions for Class 6 Hindi Chapter 15

       आज हम आप लोगों को वसंत भाग-1 के कक्षा-6  का पाठ-15 (NCERT Solutions for Class 6 Hindi Vasant Bhag 1 Chapter 15) के नौकर पाठ का प्रश्न-उत्तर (Naukar Question Answer) के बारे में बताने जा रहे है जो कि अनु बंद्योपाध्याय (Anu Bandyopadhyay ) द्वारा लिखित है। इसके अतिरिक्त यदि आपको और भी NCERT हिन्दी से सम्बन्धित पोस्ट चाहिए तो आप हमारे website के Top Menu में जाकर प्राप्त कर सकते हैं।  

नौकर प्रश्न-उत्तर | Naukar Question Answer

प्रश्न-अभ्यास

निबंध से

प्रश्न 1. आश्रम में कॉलेज के छात्रों से गांधी जी ने कौन सा काम करवाया और क्यों?

उत्तर : छात्रों को अपने अंग्रेजी भाषा के ज्ञान का बड़ा गर्व था। इसलिए आश्रम में गाँधी जी ने कॉलेज के छात्रों से गेंहू बीनने का काम करवाया। गांधी जी छात्रों के मन की बात को समझ चुके थे गांधी जी छात्रों को यह शिक्षा देना चाहते थे की अधिक पढ़ लिख लेने पर भी हमें छोटे मोटे  काम करने में संकोच नहीं करना चाहिए।

प्रश्न 2. ‘आश्रम में गांधी कई ऐसे काम भी करते थे, जिन्हें आमतौर पर नौकर-चाकर करते हैं।’ पाठ से तीन ऐसे प्रसंगों को अपने शब्दों में लिखो जो इस बात का प्रमाण हों।

उत्तर : आश्रम में गांधी जी बहुत ऐसे काम करते थे, जिन्हें ज्यादातर नौकर-चाकर करते हैं।जैसे –

  • गांधी जी आश्रम में अपने हाथों से चक्की से आटा पीसा करते थे। इतना ही नहीं चक्की को  ठीक करने के लिए कभी –कभी  घंटों मेहनत करते थे।
  • गांधीजी बरतनों की सफ़ाई अपने हाथों से करते थे। वे बरतनों को रगड़-रगड़ कर चांदी सा  चमकाते थे।
  • गाँधी जी रसोइघर में सब्जियों को काटने, धोने और छीलने का कार्य करने के साथ-साथ रसोईघर के सफ़ाई का भी पूरा ध्यान रखते थे।

प्रश्न 3. लंदन में भोज पर बुलाए जाने पर गांधी जी ने क्या किया?

उत्तर : जब लंदन में छात्रों ने गांधी जी को भोज पर बुलाया तो गांधी जी वहाँ पहले से ही पहुँचकर प्लेट धोने, सब्जी साफ़ करने तथा अन्य छोटे-मोटे काम करने में उन लोगों की सहायता करने लगे।

प्रश्न 4. गांधी जी ने श्रीमती पोलक के बच्चे का दूध कैसे छुड़वाया?

उत्तर : श्रीमती पोलक का बच्चा सारी रात माँ का दूध पीता था जिसके कारण माँ सारी रात जागी  रहती थी ।जिस वजह से  वे काफ़ी कमज़ोर हो गई थीं। गांधी जी ने बच्चे की देखभाल का काम अपने हाथों में ले लिया। गाँधी जी देर रात को घर पहुँचने पर भी श्रीमती पोलक के बिस्तर से बच्चे को उठाकर अपने बिस्तर पर सुला देते थे। वह बिस्तर के पास एक बरतन में पानी भरकर भी रख लेते थे ताकि बच्चे को प्यास लगने से पानी पीला सके। बच्चे को पंद्रह दिन तक गाँधी जी अपने साथ सुलाया जिसके कारण बच्चे ने माँ का दूध पीना छोड़ दिया।

प्रश्न 5. आश्रम में काम करने या करवाने का कौन सा तरीका गांधी जी अपनाते थे? इसे पाठ पढ़कर लिखो।

उत्तर : आश्रम में  गांधीजी स्वयं काम करते थे और दूसरों से काम करवाने में सख्ती बरतते थे, पर वे अपना काम किसी और से करवाना पसंद नहीं करते थे। वे किसी के पूछने पर उसे तुरंत काम बता देते थे। गांधी जी को स्वयं काम करते देखकर कोई भी मना नहीं कर पाता था। गाँधी जी काम करने वालों को कभी नौकर नहीं समझते थे, उन्हें अपना भाई या बहन मानते थे। इससे काम न करने की इच्छा  रखने वाला भी काम करने को प्रेरित हो जाता था।

निबंध से आगे

प्रश्न 1. गांधी जी इतना पैदल क्यों चलते थे? पैदल चलने के क्या लाभ हैं? लिखो।

उत्तर : पैदल चलना स्वास्थ्य के लिए लाभदायक है। पैदल चलना एक व्यायाम है। इससे पैरों की हड्डियों और माँसपेशियों को मजबूती मिलती है। पैरों में ताकत आती है और शरीर की चुस्ती, फुर्ती बनी रहती है। पैदल चलने से स्वस्थ अच्छा रहता है।, इसलिए गाँधी जी मीलों पैदल चला करते थे।

प्रश्न 2. अपने घर के किन्हीं दस कामों की सूची बनाकर लिखो और यह भी कि उन कामों को घर के कौन-कौन से सदस्य अकसर करते हैं? तुम तालिका की सहायता ले सकते हो-

उत्तर :

काम मैं माँ पिता भाई बहन चाचा दादी अन्य
 घर का सामान लाना ü  
 घर की सफाई करना ü  
 बिस्तर रखना ü
 खाना बनाना ü
 कपड़े धोना ü
 इस्त्री करना ü
 जूतों की पॉलिश ü  
 अतिथियों की सेवा ü
 दूध लाना ü
 बाहर कार्य ü ü
  • अब यह देखो कि कौन सबसे ज़्यादा काम करता है और कौन सबसे कम। कामों का बराबर बँटवारा हो सके, इसके लिए तुम क्या कर सकते हो? सोचकर कक्षा में बताओ।

उत्तर : माँ सबसे ज्यादा काम करती है और थोड़ा कम काम पिता, मैं ,भाई और चाचा करते हैं। कामों को बराबर नही  बाँट सकते है , सबको अपने  कामों की जिम्मेदारी खुद लेनी पड़ेगी।

अनुमान और कल्पना

प्रश्न 1. गांधी जी अपने साथियों की जरूरत के मुताबिक हर काम कर देते थे, लेकिन उनका खुद का काम कोई और करे, ये उन्हें पसंद नहीं था। क्यों? सोचो और अपनी कक्षा में सुनाओ।

उत्तर : गाँजी जी अपने साथियों की हर जरूरतों के मुताबिक काम करते थे,पर वह अपना काम दूसरों से कराना पसंद नहीं करते थे। गाँधीजी यह नहीं चाहते थे कि महात्मा या बूढ़े होने की वजह से कोई उनकी सहायता करे। शरीर जब तक लाचार न हो, तब तक वह किसी की मदद लेना नहीं चाहते थे।

 प्रश्न 2. “नौकरों को हमें वेतनभोगी मज़दूर नहीं, अपने भाई के समान मानना चाहिए। इसमें कुछ कठिनाई हो सकती है, फिर भी हमारी कोशिश सर्वथा निष्फल नहीं जाएगी।” गांधी जी ऐसा क्यों कहते होंगे? तर्क के साथ समझाओ।

उत्तर : नौकरों और मजदूरों के साथ हमें अच्छा व्यवहार करना चाहिए क्योंकि वह भी हमारे जैसे इंसान है। गाँधी जी का मानना था की नौकरों के साथ हमारा भाई –बहन जैसा रिस्ता होना चाहिए क्योंकि वह हमारे परिवार के सदस्य की तरह है। हमारा इस तरह का व्यवहार उन्हें आनन्द प्रदान करेगा।

प्रश्न 3. गांधी जी की कही-लिखी बातें लगभग सौ से अधिक किताबों में दर्ज हैं। घर के काम, बीमारों की सेवा, आगंतुकों से बातचीत आदि ढेरों काम करने के बाद गांधी जी को लिखने का समय कब मिलता होगा? गांधी जी का एक दिन कैसे गुजरता होगा, इस पर अपनी कल्पना से लिखो।

उत्तर : सुबह उठकर अपने नित्यक्रिया खत्म करके,टहलने जाते होंगे। फिर वहाँ से आकर घर के काम, बीमारों की सेवा,पूजा अर्चना करना , चक्की से आटा पीसने और रसोई में जाकर सब्जियाँ छीलने का काम करते होंगे। इस बीच वह साथियों के कार्य की छानबीन भी करते होंगे। दोपहर का खाना  स्वयं ही सबको परोसते होंगे। शाम को राजनीतिक सम्मेलनों और सभाओं का कार्य देखते होंगे ,चरखा चलाते होंगे इस तरह उनका व्यस्त दिनचर्या समाप्त होती होगी।

प्रश्न 4. पाठ में बताया गया है कि गांधी जी और उनके साथी आश्रम में रहते थे। घर और स्कूल के छात्रावास से गांधी जी का आश्रम किस तरह अलग था? कुछ वाक्यों में लिखो।

उत्तर : स्कूल या छात्रावास में छात्रों का उद्देश्य केवल ज्ञान-अर्जन करना होता है, अन्य किसी काम की चिंता नहीं होती है। घर में परिवार के सदस्य साथ रहते हैं। गांधीजी के आश्रम में देश तथा समाज के सेवक, स्वतंत्रता सेनानी, और उनके परिवार के लोग रहते थे। आश्रम में आटा पीसने से लेकर सब्जियाँ उगाने तक का काम वे करते थे।आश्रम में रहकर वह देश की राजनीतिक हलचल  और स्वतंत्रता आंदोलन की योजना बनाते थे।

प्रश्न 5. ऐसे कामों की सूची बनाओ जिन्हें तुम हर रोज़ खुद कर सकते हो।

उत्तर : प्रतिदिन स्वयं किए जाने वाले कुछ काम हैं जैसे –

  • झाडू लगाना
  • प्लेट धोना
  • बिस्तर ठीक करना
  • चाय बनाना

भाषा की बात

प्रश्न 1. (क) “पिसाई’ संज्ञा है। पीसना शब्द से ‘ना’ निकाल देने पर ‘पीस’ धातु रह जाती है। पीस धातु में ‘आई’ प्रत्यय जोड़ने पर ‘पिसाई’ शब्द बनता है। किसी-किसी क्रिया में प्रत्यय जोड़कर उसे संज्ञा बनाने के बाद उसके रूप में बदलाव आ जाता है, जैस- ढोना से ढुलाई, बोना से बुआई।
मूल शब्द के अंत में जुड़कर नया शब्द बनाने वाले शब्दांश को प्रत्यय कहते हैं।
नीचे कुछ संज्ञाएँ दी गई हैं। बताओ ये किन क्रियाओं से बनी हैं?

  1. रोपाई ………..
  2. कटाई ………..
  3. सिंचाई ……….
  4. सिलाई ………..
  5. कताई ……….
  6. रँगाई ………

उत्तर :

  1. रोपाई – रोपना
  2. कटाई – काटना
  3. सिंचाई – सींचना
  4. सिलाई – सिलना
  5. कताई – कातना
  6. रँगाई – रँगना

(ख) हर काम-धंधे के क्षेत्र की अपनी कुछ अलग भाषा और शब्द-भंडार भी होते हैं। ऊपर लिखे शब्दों का संबंध दो अलग-अलग कामों से है। पहचानो कि दिए गए शब्दों के संबंध किन-किन कामों से है?

उत्तर: कृषि क्षेत्र में रोपाई, सिंचाई और कटाई के काम होते है।
निर्माण क्षेत्र में कताई, सिलाई और रंगाई के काम होते है।

प्रश्न 2. (क) तुमने कपड़ों को सिलते हुए देखा होगा। नीचे इस काम से जुड़े कुछ शब्द दिए गए हैं। आसपास के बड़ों से या दरजी से इन शब्दों के बारे में पूछो और इन शब्दों को कुछ वाक्यों में समझाओ।

  • तुरपाई
  • बखिया
  • कच्ची सिलाई
  • चोर सिलाई

उत्तर :

  • तुरपाई –हाथ से सिलाई करने को तुरपाई कहते हैं।
  • बखिया –मशीन से की जाने वाली सिलाई को बखिया कहते हैं।
  • कच्ची सिलाई –वह सिलाई जो पक्की सिलाई करने के बाद हटा दी जाती है।
  • चोर सिलाई –जो बाहर से दिखाई न दे उसे चोर सिलाई कहते है।

(ख) नीचे लिखे गए शब्द पाठ से लिए गए हैं। इन्हें पाठ में खोजकर बताओ कि ये स्त्रीलिंग हैं या पुल्लिंग।

  • कालिख
  • भराई
  • चक्की
  • रोशनी
  • सेवा
  • पतीला

उत्तर :

स्त्रीलिंग: कालिख, भराई, सेवा, चक्की,और रोशनी

पुल्लिंग: पतीला

     इस पोस्ट के माध्यम से हम वसंत भाग-1 के कक्षा-6  का पाठ-15 (NCERT Solutions for Class 6 Hindi Vasant Bhag 1 Chapter 15) के नौकर पाठ का प्रश्न-उत्तर (Naukar Question Answer) के बारे में  जाने जो की अनु बंद्योपाध्याय (Anu Bandyopadhyay ) द्वारा लिखित हैं । उम्मीद करती हूँ कि आपको हमारा यह पोस्ट पसंद आया होगा। पोस्ट अच्छा लगा तो इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर करना न भूले। किसी भी तरह का प्रश्न हो तो आप हमसे कमेन्ट बॉक्स में पूछ सकतें हैं। साथ ही हमारे Blogs को Follow करे जिससे आपको हमारे हर नए पोस्ट कि Notification मिलते रहे।

          आपको यह सभी पोस्ट Video के रूप में भी हमारे YouTube चैनल  Education 4 India पर भी मिल जाएगी।

NCERT / CBSE Solution for Class-9 (HINDI)

NCERT / CBSE Solution for Class-10 (HINDI)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

x
error: Content is protected !!