डॉ० सम्पूर्णानन्द का जीवन परिचय | Dr. Sampurnanand Jeevan Parichay | Biograph

डॉ० सम्पूर्णानन्द का जीवन परिचय | Dr. Sampurnanand Jeevan Parichay       

          आज हम आप लोगों को प्रसिद्ध शिक्षाशास्त्री, कुशल राजनीतिज्ञ एवं मर्मज्ञ साहित्यकार डॉ० सम्पूर्णानन्द जी का जीवन परिचय  (Dr. Sampurnanand Biograph) के बारे में बताने जा रहे हैं। इसके अतिरिक्त यदि आपको और भी कोई लेखकों का जीवन परिचय चाहिए तो आप हमारे website के top Menu में जाकर प्राप्त कर सकते है। 

Dr Sampurnanand Biography

         प्रसिद्ध शिक्षाशास्त्री, कुशल राजनीतिज्ञ एवं मर्मज्ञ साहित्यकार डॉ० सम्पूर्णानन्द (Dr. Sampurnanand) का जन्म 1 जनवरी, 1890 ई० को काशी में हुआ था। इन्होंने क्वीन्स कालेज, वाराणसी से बी0एस-सी की परीक्षा पास करने के बाद ट्रेनिंग कालेज, इलाहाबाद से एल0 टी0 किया। इन्होंने एक अध्यापक के रूप में जीवन-क्षेत्र में प्रवेश किया और सबसे पहले प्रेम महाविद्यालय, वृन्दावन में अध्यापक हुए। कुछ दिनों बाद इनकी नियुक्ति डूंगर कालेज, बीकानेर में प्रिंसिपल के पद पर हुई। सन् 1921 में महात्मा गाँधी के राष्ट्रीय आन्दोलन से प्रेरित होकर काशी लौट आये और ‘ज्ञान मंडल’ में काम करने लगे। इन्हीं दिनों इन्होंने ‘मर्यादा’ (मासिक) और ‘टूडे’ (अंग्रेजी दैनिक) का सम्पादन किया। 

          इन्होंने राष्ट्रीय स्वतंत्रता संग्राम में प्रथम पंक्ति के सेनानी के रूप में कार्य किया और सन् 1936 में प्रथम बार कांग्रेस के टिकट पर विधानसभा के सदस्य चुने गये। सन् 1937 में कांग्रेस मंत्रिमंडल गठित होने पर ये उत्तर प्रदेश के शिक्षामंत्री नियुक्त हुए। सन् 1955 में ये उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री बने। सन् 1960 में इन्होंने मुख्यमंत्री पद से त्याग-पत्र दे दिया। सन् 1962 में ये राजस्थान के राज्यपाल नियुक्त हुए। सन् 1967 में राज्यपाल पद से मुक्त होने पर ये काशी लौट आये और मृत्युपर्यन्त काशी विद्यापीठ के कुलपति बने रहे। 10 जनवरी, 1969 ई0 को काशी में ही इस साहित्य-तपस्वी का निधन हो गया। 

          डॉ० सम्पूर्णानन्द (Dr. Sampurnanand) एक उद्भट विद्वान थे। हिन्दी, संस्कृत और अंग्रेजी तीनों भाषाओं पर इनका समान अधिकार था उर्दू और फारसी के भी अच्छे ज्ञाता थे। विज्ञान, दर्शन और योग इनके प्रिय विषय थे। इन्होंने इतिहास, राजनीति और ज्योतिश का भी अच्छा अध्ययन किया था। राजनीतिक कार्यों में उलझे रहने पर भी इनका अध्ययन क्रम बराबर बना रहा। सन 1940 में ये अखिल भारतीय हिन्दी साहित्य सम्मेलन के सभापति निर्वाचित हुए थे। हिन्दी साहित्य सम्मेलन ने इनकी समाजवाद कृति पर इनको मंगलाप्रसाद पारितोषिक प्रदान किया था। इनको सम्मेलन की सर्वोच्च उपाधि साहित्य वाचस्पति भी प्राप्त हुई थी। काशी नागरी प्रचारिणी सभा के भी ये अध्यक्ष और संरक्षक थे। उत्तर प्रदेश के शिक्षामंत्री और मुख्यमंत्री के रूप में इन्होंने शिक्षा, कला और साहित्य की उन्नति के लिए अनेक उपयोगी कार्य किये। वाराणसी संस्कृत विश्वविद्यालय इनकी ही देन है। 

          डॉ. सम्पूर्णानन्द (Dr. Sampurnanand) जी ने विविध विषयों पर लगभग 25 ग्रंथों की तथा अनेक फूटकर लेखों की रचना की थी।

          डॉ. सम्पूर्णानन्द (Dr. Sampurnanand) की प्रसिद्ध कृतियाँ निम्नलिखित हैं:

प्रसिद्ध लेखकों के जीवन परिचय

निबन्ध-संग्रह- ‘पृथ्वी से सप्तर्षि मण्डल’, ‘चिद्विलास’, ‘ज्योतिर्विनोद’, ‘अंतरिक्ष यात्रा’।

फुटकर निबन्ध ‘जीवन और दर्शन’।

जीवनी ‘देशबन्धु चितरंजनदास’, ‘महात्मा गांधी’।

राजनीति और इतिहास– ‘चीन की राज्यक्रान्ति’. ‘मिस्र की राज्यक्रान्ति’, ‘समाजवाद’, ‘आर्यों का आदि देश’, ‘सम्राट हर्षवर्द्धन’, ‘भारत के देशी राज्य’ आदि। 

धर्म ‘गणेश’, ‘नासदीय सूक्त की टीका’, ‘ब्राह्मण सावधान’। 

अन्य रचनाएँ ‘अंतर्राष्ट्रीय विधान’, ‘पुरुष सूक्त’, ‘व्रात्यकाण्ड’, ‘भारतीय सृष्टि क्रम विचार’, ‘स्फुट विचार’, ‘हिन्दू देव परिवार का विकास’, ‘वेदार्थ प्रवेशिका’, ‘अधूरी क्रान्ति’, ‘भाषा की शक्ति’ तथा अन्य निबन्ध। 

          इनकी शैली शुद्ध, परिष्कृत एवं साहित्यिक है। इन्होंने विषयों का विवेचन तर्कपूर्ण शैली में किया है। विषय प्रतिपादन की दृष्टि से इनकी शैली के तीन रूप (1) विचारात्मक, (2) व्याख्यात्मक तथा (3) ओजपूर्ण लक्षित होते हैं। 

विचारात्मक शैली इस शैली के अन्तर्गत इनके स्वतंत्र एवं मौलिक विचारों की अभिव्यक्ति हुई है। भाषा विषयानुकूल एवं प्रवाहपूर्ण है। वाक्यों का विधान लघु है, परन्तु प्रवाह तथा ओज सर्वत्र विद्यमान है। 

व्याख्यात्मक शैली दार्शनिक विषयों के प्रतिपादन के लिए इस शैली का प्रयोग किया गया है। भाषा सरल एवं संयत है। उदाहरणों के प्रयोग द्वारा विषय को अधिक स्पष्ट करने का प्रयास किया गया है। 

ओजपूर्ण शैली इस शैली में इन्होंने मौलिक निबंध लिखे हैं। ओज की प्रधानता है। वाक्यों का गठन सुन्दर है। भाषा व्यावहारिक है। 

          इनकी भाषा सबल, सजीव, साहित्यिक, प्रौढ़ एवं प्राञ्जल है। संस्कृत के तत्सम शब्दों का अधिक प्रयोग किया गया है। गंभीर विषयों के विवेचन में भाषा विषयानुकूल गंभीर हो गयी है। कहावतों और मुहावरों का प्रयोग प्रायः नहीं किया गया है। शब्दों का चुनाव भावों और विचारों के अनुरूप किया गया है। भाषा में सर्वत्र प्रवाह, सौष्ठव और प्राञ्जलता विद्यमान है। 

         इस पोस्ट के माध्यम से हम प्रसिद्ध शिक्षाशास्त्री, कुशल राजनीतिज्ञ एवं मर्मज्ञ साहित्यकार डॉ० सम्पूर्णानन्द जी का जीवन परिचय  (Dr. Sampurnanand Biograph) के बारे में  जाना। उम्मीद करती हु आपको हमारा ये पोस्ट पसंद आया होगा। पोस्ट अच्छा लगा तो इसे अपने दोस्त के साथ शेयर करन न भूले। किसी भी तरह का सवाल हो तो आप हमसे कमेन्ट बॉक्स में पूछ सकतें हैं। साथ ही हमारे Blogs को Follow करे जिससे आपको हमारे हर नए पोस्ट कि Notification मिलते रहे।

हमारे हर पोस्ट आपको Video के रूप में भी हमारे YouTube चेनल Education 4 India पर भी मिल जाएगी।

प्रसिद्ध लेखकों के जीवन परिचय

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

x
error: Content is protected !!